AAP-vs-congress

कांग्रेस का विकल्प बनेगी AAP ,  Panjab की जीत से मीडिया क्यों ज्ञान दे रहा है? 

 पंजाब में आम आदमी पार्टी की सरकार के बाद  से यह खबर प्रमुख सुर्खियों में रही  है कि आम आदमी पार्टी  कांग्रेस का विकल्प देश में बनेगी. 

 अरविंद केजरीवाल भी अपने नए मुख्यमंत्री भगवंत मान को साथ लेकर गुजरात से लेकर हिमाचलप्रदेश तक रोड शो करते हुए काफी उत्साहित नजर आ रहे हैं अपनी 20 दिन की सरकार के कार्यों का गुणगान कर रहे हैं  

अरविंद केजरीवाल को देखकर कि यह लग रहा है कि आने वाले  चुनावों में 2-3 राज्य 20 दिन के कार्यों से जीत लेंगे.और  2 साल कार्य किया तो अरविंद केजरीवाल का 2024 मैं प्रधानमंत्री बनना निश्चित मानो ?

 चलिए मुद्दे पर आते हैं  पंजाब में आम आदमी पार्टी की जीत एक बड़ी जीत इसमें कोई दो राय नहीं हो सकती लेकिन आम आदमी पार्टी  ने 2017  पिछले चुनाव में  20 सीट पंजाब में जीती.

 इससे यह कहा जा सकता है कि जमीनी रूप से काफी लंबे समय से आप पंजाब में एक्टिव थी. वर्तमान मुख्यमंत्री पहले से ही पंजाब से सांसद भी थे 

AAP ने  उत्तराखंड , गोवा में प्रयास किया लेकिन वहां  सफलता नहीं मिली. क्योंकि वहां पर बीजेपी काफी मजबूत  संगठन है इस लिए  AAP को वहां सफलता नहीं मिली. 

जबकि पंजाब में BJP ना के बराबर है और कांग्रेस सत्ता में थी. पहले से ही anti-incumbency थी और कांग्रेस का  युवा नेतृत्व ने अपनी चलाने के लिए पंजाब में पार्टी के नेताओं का खुलेआम आपस में लडवाया.पंजाब के वरिष्ठ नेता तत्कालीन मुख्यमंत्री को  पद से हटा पार्टी से निकाला. क्योंकि वह नेतृत्व को yes sir नहीं बोलते  लेकिन इसका नुकसान कांग्रेस पार्टी को पंजाब में  चुनाव में हुआ

  

 यह सत्य है कि कांग्रेस कमजोर नेतृत्व की वजह से अपने पतन की ओर बढ़ रही है और अपनी पुरानी नीतियों को छोड़ना नहीं चाहती और आम लोगों को हिंदू और हिंदुत्व का मतलब समझा समझाने में लगी हुई है लेकिन इंटरनेट और सोशल मीडिया के जमाने में जब खबर गांव तक पहुंचती है तो राष्ट्रवाद जीतता है और Secular हारता है.

.  

यह कांग्रेस के हित में नहीं लेकिन कांग्रेसी पुरानी पार्टी है जमीनी स्तर पर  कार्यकर्ता और मजबूत संगठन भी है इस वजह से इतना आसान नहीं है  कांग्रेस खत्म खत्म हो जाए उसका विकल्प कोई दूसरी पार्टी बन जाए. 

अकाली दल के साथ पंजाब नहीं जाना चाहता था  क्योंकि यह  परिवार कि पार्टी थी और परिवार वादी पार्टियों  के खिलाफ जनता वोट कर रही .  काफी लंबे समय से वहां जनता नया विकल्प की तलाश में थी. आम आदमी पार्टी ने पंजाब मैं राजनीतिक रिक्त स्थान का फायदा उठाया. 

आप पार्टी काफी लंबे समय से कांग्रेस नहीं बल्कि कांग्रेस की नीतियां का विकल्प बनाने का प्रयास कर रही है यह सत्य है – दिल्ली मैं  शाहीन बाग,आगजनी व सेना पर बयान उसका जीवित उदाहरण है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.